NASA ने खोजे पृथ्वी के आकार के सात प्लैनेट , 3 पर संभव है जीवन - NASA found 7 earth size planets with possibility of life

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA के वैज्ञानिकों ने एक और सोलर सिस्टम खोज निकालने का दावा किया है. इनमें पृथ्वी के आकार के सात प्लैनेट हैं. दावा किया जा रहा है कि इनमें से तीन प्लैनेट में समुद्र भी है और यहां जीवन की संभावनाएं हो सकती हैं. देखते हैं क्या हैं वे दावे जिनसे इन नए खोजे गए ग्रहों पर जीवन की संभावनाएं जगती हैं.

नासा ने ट्वीट किया कि नया रिकॉर्ड, हमारे सौरमंडल के बाहर आवासीय जोन में एक तारे के इर्द-गिर्द धरती के आकार के सात नए ग्रह मिले हैं. स्पिट्जर स्‍पेस टेलीस्‍कोप ने पाया कि ये ग्रह आकार में पृथ्‍वी जितने बड़े हैं और आवासीय जोन के दायरे में आते हैं. नासा के वैज्ञानिकों का दावा है कि इनमें से तीन प्लैनेट में समुद्र भी है. यहां धरती की तरह पानी होने की संभावना है. इससे वहां जीवन होने यानी एलियन्स की मौजूदगी की पूरी संभावना है.


इस नए सोलर सिस्टम में पृथ्वी के आकार के सात ग्रह हैं. ये सभी छोटे स्टार ट्रैपिस्ट-1 का चक्कर लगाते हैं. 7 में से छह प्लैनेट का तापमान शून्य से 100 डिग्री सेल्सियस तक है. इन तीन प्लैनेट के साल 4, 6 और 9 दिन के हैं. यानी ये तीनों प्लैनेट अपने सूरज यानी ट्रैपिस्ट-1 का चक्कर 4, 6 और 9 दिन में पूरा करते हैं. ये तीनों प्लैनेट पृथ्वी से हलके हैं. नासा की इस टीम को लीड कर रहे डॉ. क्रिस कोपरवीट ने कहा, "इस खोज ने भविष्य में यूनिवर्स में पृथ्वी के अलावा जीवन होने की बात को बल मिला है." ग्रहों के इस नए समूह की खोज को विज्ञान की दुनिया में सदी की सबसे बड़ी खोजों में बताया जा रहा है. ये सोलर सिस्टम पृथ्वी से 39 प्रकाश वर्ष (378 लाख करोड़ किमी) की दूरी पर है. हालांकि, इसके बारे में वैज्ञानिकों को पूरी खोज और जीवन का पता लगाने में एक दशक से अधिक समय लग सकता है. नए खोजे गए सौरमंडल के ये ग्रह छोटे स्टार ट्रैपिस्ट-1 का चक्कर लगाते हैं. ट्रैपिस्ट हमारे ज्यूपिटर ग्रह से थोड़ा ही बड़ा है. इसकी रोशनी सूरज से 200 गुना कम है. वैज्ञानिकों का आकलन है कि जब सूरज का ईंधन खत्म हो जाएगा, तब हमारी पृथ्वी भी खत्म हो जाएगी. लेकिन यह ग्रह मौजूद रहेगा. ट्रैपिस्ट में हाइड्रोजन गैस काफी धीमे जल रही है. यानी यह ब्रह्मांड की मौजूदा उम्र से 700 गुना ज्यादा चलेगा.
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment