केरल में निपाह वायरस का दोबारा हमला, 17 की मौत, 1300 लोगों पर स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की नजर- nipah-virus

कोझिकोड (केरल): केरल में निपाह वायरस दोबारा पैर पसार रहा है. कोझिकोड जिले में गुरुवार को एक और व्‍यक्ति की मौत होने से मरने वालों की संख्‍या बढ़कर 17 हो गई है. दो दिन में यह तीसरी मौत है. 25 वर्षीय रेसीन की मौत कोझिकोड मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इलाज के दौरान हुई. स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक जांच में अब तक 18 लोगों में निपाह वायरस होने की पुष्टि हुई है, जिनमें से 16 की मौत हो चुकी है. दो का इलाज अभी चल रहा है. निपाह वायरस के लिए 196 नमूनों की जांच की गई, जिनमें से 178 निगेटिव पाए गए. एक फौजी भी हो चुका है वायरस का शिकार पिछले हफ्ते कोलकाता के फोर्ट विलियम में तैनात केरल के एक 28 वर्षीय सैनिक की मौत हुई थी. ऐसी आशंका है कि उनकी मौत भी निपाह वायरस के कारण हुई. एक रक्षा प्रवक्ता ने बताया था कि उन्हें 20 मई को कमांड अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां 5 दिन बाद उनकी मौत हो गई. उनके नमूने को जांच के लिए पुणे स्थित राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान भेजा गया और इसके परिणाम का इंतजार किया जा रहा है. वायरस की पुष्टि होने तक प्रभावित व्यक्तियों के संपर्क में आए 1300 से अधिक लोगों को निगरानी में रखा जा रहा है. ऐसा माना जा रहा है कि यह वायरस चमगादड़ों की वजह से फैल रहा है. दिल्ली सरकार की एडवाइजरी, फल खाने में सावधानी बरतें लोग दिल्ली सरकार ने लोगों को वायरस से सतर्क रहने का परामर्श दिया है लेकिन यह भी कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में इस घातक विषाणु का मानव संक्रमण सामने नहीं आया. सरकार ने लोगों से इस सीजन में खजूर का जूस/शेक नहीं पीने को कहा है. उसने लोगों से यह भी कहा है कि जहां तक आम की बात है तो यदि वह पेड़ से गिरकर उसके नीचे कुछ समय तक पड़ा रहा हो, तो ऐसे आम को न खाएं. सरकार ने कहा कि यह बीमारी ज्यादा नहीं फैली है, यह केरल के कुछ जिलों-कोझिकोड व मलाप्पुरम तक ही सीमित है. परामर्श में कहा गया है कि आंकड़े बताते हैं कि आम लोगों को व्यक्तिगत एवं अपने परिवारों की सुरक्षा को लेकर आशंकित होने की जरुरत नहीं है.
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment