राजनाथ-महबूबा के सामने राष्‍ट्रगान का अपमान? पुलिस करेगी जांच- rajnath-singh-mehbooba-mufti

जम्मू-कश्मीर की मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती की इफ्तार पार्टी में राष्‍ट्रगान का सम्‍मान न करने के विवाद पर राज्‍य के डीजीपी का बयान आया है. उन्‍होंने India Today से बातचीत के दौरान स्वीकार किया कि वह मुख्‍यमंत्री द्वारा दी गई इफ्तार पार्टी में मौजूद थे. राज्य के डीजीपी एसपी वैद्य ने कहा, 'तब राष्‍ट्रगान के अपमान का मामला प्रकाश में नहीं आया. हम वीडियो देखेंगे और फिर बात करेंगे.' दरअसल, महबूबा मुफ्ती ने बीते सप्‍ताह गुरुवार को इफ्तार पार्टी का आयोजन किया था. दावा किया जा रहा है कि पार्टी में राष्‍ट्रगान बजने के दौरान कुछ लोगों ने इसका अपमान किया. बता दें कि इस पार्टी में कई बड़ी हस्तियां शामिल थीं. उनमें केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह भी शामिल हुए थे. इसके अलावा राज्यपाल एन एन वोहरा, केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, उच्च न्यायालय के न्यायाधीश और अन्य गणमान्य लोग शामिल हुए. इस अवसर पर सेना, पुलिस और नागरिक प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे. जम्‍मू-कश्‍मीर दौरे पर गए थे राजनाथ सिंह जम्‍मू कश्‍मीर में राजनाथ सिंह आतंकवाद रोधी अभियानों (एंटी-टेररिस्ट ऑपरेशन) को स्थगित करने के निर्णय की समीक्षा करने के लिए दो दिवसीय यात्रा पर गए थे . इस दौरान उन्‍होंने सूबे के हालात को दुरुस्त करने और लोगों की समस्याओं को दूर करने के लिए कई बड़े ऐलान किए . राजनाथ सिंह ने पश्चिम पाकिस्तान से आकर जम्मू-कश्मीर में बसने वाले प्रत्येक शरणार्थी परिवार को साढ़े पांच लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया.इसका लाभ 5,764 शरणार्थियों को मिलेगा. उन्होंने कहा कि इन नौ बटालियनों में से दो सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थापित की जाएंगी. इनका नाम भी बॉर्डर बटालियन होगा. इसके अलावा दो महिला बटालियन जम्मू और कश्मीर मंडलों में स्थापित की जाएंगी और पांच ऐसी ‘इंडियन रिजर्व बटालियन’ स्थापित की जाएंगी, जिनमें 60 प्रतिशत सीट सीमावर्ती क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए आरक्षित होंगी.
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment