मंदसौर फायरिंग में मृत किसानों के घरवालों को राहुल की सभा में जाने से रोका- relatives-of-farmer-who-died-in-mandsaur

मध्यप्रदेश के मंदसौर में राहुल गांधी के पहुंचने से पहले प्रशासन सतर्क हो गया है. इसी कड़ी में पिछले साल किसान आंदोलन में मारे गए परिवार वालों को राहुल गांधी से मिलने के रोकने के प्रयास तेज कर दिए हैं. गोली कांड में मारे गए अभिषेक के माता-पिता ने आरोप लगाया है कि प्रशासन उन्हें धमकी दे रहा है कि राहुल गांधी से नहीं मिले.दरअसल, अभिषेक की मौत के बाद सरकार ने उसके भाई संदीप पाटीदार को नागपुर में चतुर्थ वर्ग के नौकरी दी है. उसे फोन पर एडीएम आर. के. वर्मा ने धमकी दी है तुम सरकारी नौकरी में हो और अगर तुम्हारे माता-पिता राहुल गांधी से मिलने गए तो तुम्हारी नौकरी भी जा सकती है.इससे पहले अभिषेक के चाचा मधुसूदन पाटीदार को भी मंदसौर प्रशासन ने राहुल की रैली में जाने से रोकने के प्रयास किये थे. एडीएम आर के वर्मा ने फोन पर सफाई दी कि वो तो बस जानकारी ले रहे थे कि परिवार से कौन-कौन राहुल गांधी से मिलने जा रहा है. उन्हें रोकने की कोशिश नहीं हुई.मालूम हो कि पिछले साल किसान आंदोलन के दौरान 5 लोगों की फायरिंग में मौत हो गई थी. इसमें 17 साल के अभिषेक के अलावा सत्यनारायण ,घनश्याम ,बबलू उर्फ पूनमचंद और कन्हैया लाल थे.इन सभी के परिजन किसान सभा के बैनर तले गुड़ा गांव में जुटे थे और सब ने एक साथ मांग की कि पुलिस फायरिंग के बाद जो भी किसान से सरकार ने वादे किए थे वह पूरे नहीं किए गए हैं.बता दें कि पिछले साल हुए गोलीकांड के बाद राहुल गांधी को मंदसौर आने से रोक दिया गया था, इस वजह से इस बार राहुल गांधी इन से मिलने के लिए मंदसौर आ रहे हैं. अभिषेक की मां कहती है कि अभिषेक के लिए सच्ची श्रद्धांजलि यही होगी कि सरकार किसानों की मांगों को पूरी करें और यही बात वो राहुल गांधी से कहेंगी .
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment