महागठबंधन में रार, मायावती-कांग्रेस की नजदीकी अखिलेश को नहीं आ रही रास?-sp-chief-akhilesh-yadav

आगामी लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ एकजुट हो रहे विपक्ष में अभी से दरार पड़ती नजर आ रही है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की इफ्तार पार्टी में समाजवादी पार्टी का कोई नुमाइंदा नहीं पहुंचा, जिसके बाद से सवाल उठने लगे हैं कि क्या कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के बीच सबकुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है? क्या समाजवादी पार्टी (SP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को बहुजन समाज पार्टी (BSP) सुप्रीमो मायावती और कांग्रेस की करीबी रास नहीं आ रही है? सवाल यह भी उठ रहा है कि क्या पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव गठबंधन के तहत सीटों के बंटवारे को लेकर दबाव में हैं. बताया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में करारी हार के लिए समाजवादी पार्टी कांग्रेस को जिम्मेदार मानती है. लिहाजा समाजवादी पार्टी आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को ज्यादा भाव देने के मूड में नहीं हैं. वहीं, उपचुनावों में मिली जीत के बाद से समाजवादी पार्टी किसी भी सूरत में बीएसपी का साथ नहीं छोड़ना चाहती है. अखिलेश यादव तो यहां तक ऐलान कर चुके हैं कि वो बसपा के साथ गठबंधन के लिए जूनियर पार्टनर बनने और कुछ सीटें छोड़ने तक को तैयार हैं. अखिलेश ने इफ्तार पार्टी में जाने का किया था ऐलान बुधवार को अखिलेश यादव ने जोर-शोर से ऐलान किया था कि समाजवादी पार्टी राहुल गांधी की इफ्तार पार्टी में जरूर शामिल होगी, लेकिन शाम को जब इफ्तार पार्टी हुई तो उसमें समाजवादी पार्टी का कोई नुमाइंदा शामिल नहीं हुआ. अमूमन रामगोपाल यादव ऐसे सभी आयोजनों में शिरकत जरूर करते हैं, लेकिन राहुल की इफ्तार पार्टी में वो भी नजर नहीं आए. मायावती के साथ गठबंधन को लेकर दबाव में हैं अखिलेश बताया जा रहा है कि इन दिनों एसपी अध्यक्ष अखिलेश यादव बसपा के साथ गठबंधन को लेकर खासे दबाव में हैं. हालांकि गुरुवार को कन्नौज से आए कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अखिलेश ने साफ कहा कि गठबंधन होगा और जल्द होगा. इफ्तार पार्टी में गैर-मौजूदगी से शुरू हुआ कयासों का दौर बुधवार को राहुल गांधी की इफ्तार पार्टी में समाजवादी पार्टी के किसी नुमाइंदे के नहीं पहुंचने से कयासों का दौर शुरू हो गया. जिस तरीके से मायावती और कांग्रेस लगातार नजदीक आ रहे हैं, वो शायद अखिलेश यादव को रास नहीं आ रही है.
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment