नोबेल पुरस्कार विजेता और मशहूर लेखक वीएस नायपॉल का निधन- nobel-prize-winner-of-indian-origin-and-famous-author-naipaul-dies

नई दिल्लीः भारतीय मूल के ब्रिटिश लेखक और नोबेल पुरस्कार विजेता सर विद्याधर सूरजप्रताप नायपॉल का रविवार को निधन हो गया. सर वीएस नायपॉल ने रविवार देर रात 85 की उम्र में लंदन स्थित अपने घर में आखिरी सांस ली. नायपॉल की पत्नी लेडी नादिरा नायपॉल ने उनकी मृत्यु की पुष्टी करते हुए बताया कि उन्होंने हमेशा लोगों से प्यार किया है. वे सब लोग जो उनसे प्यार करते थे उनके आखिरी समय में उनके साथ थे. नायपॉल का जन्म 17 अगस्त 1932 में त्रिनिडाड में हुआ था बता दें नायपॉल का जन्म 17 अगस्त 1932 में त्रिनिडाड में हुआ था. जिसके बाद वह इंग्लैंड जा कर रहने लगे. नायपॉल का पहला उपन्यास 1951 में प्रकाशित हुआ था. जिसका नाम 'द मिस्टिक मैसर' था. इस किताब को पाठकों से भरपूर प्यार मिला था. बता दें 1990 में ब्रिटिश सरकार ने उन्हें नाइट की उपाधि से नवाजा था. नायपॉल को 1971 में बुकर और साल 2001 में साहित्य के लिये नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया. वहीं 2008 मे 'द टाइम्स' ने सर वीएस नायपॉल को दुनिया के 50 सबसे महान लेखको में शामिल किया था.पैट्रिक फ्रेंच नायपॉल की बायोग्राफी बायोग्राफी लिखी है बता दें ब्रिटिश लेखक पैट्रिक फ्रेंच, नायपॉल की बायोग्राफी 'द वर्ल्ड इज वॉट इट इज' द ऑथोराइज्ड बायोग्राफी ऑफ सर वीएस पॉल भी लिख चुके हैं. इसके लिए नायपॉल ने भी पैट्रिक को अपनी जीवन की हर वो बात बताई जो कि उनसे पूछा गया. बायोग्राफी लिखने के लिए नायपॉल ने पैट्रिक को अपने जीवन की सारी बातें बड़ी ही बेबाकी से बताईं. नायपॉल को उनकी सबसे लोकप्रिय उपन्यास 'ए हाउस फॉर मिस्टर बिस्वास' लिखने में तीन साल से भी ज्यादा का समय लग गया था.
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment