दुनिया की आंखों में धूल झोंक रहा उत्तर कोरिया, नहीं बंद किया परमाणु मिसाइल कार्यक्रम: UN

उत्तर कोरिया दुनिया की आंखों में धूल झोंक रहा है. किम जोंग अभी भी अपने परमाणु कार्यक्रम को जारी रखे हुए है. संयुक्त राष्ट्र ने अपनी एक रिपोर्ट में इस बात का डर जताते हुए कहा कि उत्तर कोरिया समुद्र में एक पोत से दूसरे पोत में अवैध तरीके से पेट्रोलियम उत्पादों को स्थानांतरित कर प्रतिबंधों का उल्लंघन कर रहा है. सुरक्षा परिषद को भेजी गई 62 पन्नों की रिपोर्ट में संयुक्त राष्ट्र की विशेष समिति ने कोयला, लोहा, सी-फूड, अन्य उत्पादों का निर्यात करने पर उत्तर कोरिया पर लगी रोक के उल्लंघन की सूची भी दी है. इससे किम जोंग उन का शासन लाखों डॉलर का राजस्व जुटा रहा है. रिपोर्ट में कहा गया है कि प्योंगयांग ने अपना परमाणु और मिसाइल कार्यक्रम बंद नहीं किया है. 2018 में एक पोत से दूसरे पोत में अवैध तरीके से पेट्रोलियम उत्पाद और कोयले का स्थानांतरण बढ़ाकर सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों की अवहेलना कर रहा है. इसमें कहा गया है कि बीच समुद्र में उत्तर कोरिया के टैंकों में पेट्रोलियम उत्पाद भरना पाबंदियों से बचने का प्राथमिक तरीका है. इस काम में 40 पोत और 130 कंपनियां शामिल हैं. समिति की रिपोर्ट के अनुसार उत्तर कोरिया प्रतिबंधित चीजों का निर्यात कर लगातार राजस्व अर्जित करता रहा है. उदाहरण के लिए लोहा तथा इस्पात जैसी चीजों का निर्यात चीन, भारत और अन्य देशों को कर उसने अक्टूबर से मार्च तक 1.4 करोड़ डॉलर का राजस्व अर्जित किया. गौरतलब है कि जून में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के बीच ऐतिहासिक शिखर वार्ता हुई थी. इसमें किम जोंग उन ने कोरियाई प्रायद्वीप का परमाणु निस्त्रीकरण करने की प्रतिबद्धता जताई थी. इससे उन्हें उम्मीद थी कि अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंधों में ढील देगा. इधर अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने बार फिर उत्तर कोरिया पर दबाव बनाए रखने की मांग की है. उनका यह बयान संयुक्त राष्ट्र की उस रिपोर्ट के बाद आया है जिसमें कहा गया था कि प्योंगयांग परमाणु हथियार कार्यक्रम पर लगाए गए प्रतिबंधों को भी धता बता रहा है. सिंगापुर में सुरक्षा पर एक बड़ी बैठक से पहले पोम्पिओ ने कहा कि उन्होंने अन्य देशों से संयुक्त राष्ट्र के उत्तर कोरिया पर लगाए प्रतिबंधों को कठोरता से लागू करने को कहा है. पोम्पिओ ने कहा कि उन्होंने अंतिम लक्ष्य (पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण जिसपर सिंगापुर शिखर वार्ता में उत्तर कोरिया ने हामी भरी थी) हासिल करने के लिए उत्तर कोरिया पर कूटनीतिक एवं आर्थिक दबाव बनाए रखने पर जोर दिया. विदेश मंत्री ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मैं यहां अपनी बैठक से कहना चाहूंगा कि इसे हासिल करने में विश्व एकजुट है.
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment