बुराड़ी में हजारों गज ग्राम सभा की जमीन को शैलेंद्र कुमार ने करवाया भूमाफियाओं से खाली भू माफिया कर रहे थे अवैध कब्जा

दिल्ली में ग्राम सभा की जमीनों पर लगातार भूमाफिया कब्जा कर रहे हैं।  वैसे ही दिल्ली अवैध कालोनियों और अतिक्रमण की वजह से इतनी संकरी हो गई है कि सांस लेना मुश्किल हो गया है ऐसे में यदि कहीं पर कोई थोड़ी बहुत ग्राम सभा की जमीन बची हुई है तो उन पर भी राजनेताओं की नजर है।  किसी न किसी प्रॉपर्टी डीलर या दूसरे भूमाफिया के माध्यम से नेता लोग इन ग्राम सभा की जमीनों पर कब्जा कर रहे हैं।  यदि बुराड़ी विधानसभा की बात की जाए तो यहां चुनाव में यहां के एमएलए ने वायदा किया था कि वह सभी ग्राम सभाओं की चारदीवारी करवाएंगे ताकि किसी तरह के अवैध कब्जे न हो सके।

चुनाव के बाद किसी भी ग्राम सभा की चार दिवारी होना तो दूर की बात बल्कि लगातार ग्राम सभा की जमीनों पर कब्जे हो रहे हैं । साथ ही कुछ लोग ऐसे भी हैं जो ग्राम सभा के बड़े बड़े माफिया हैं और कई एकड़ ग्राम सभा की जमीनों पर कब्जा किया और जैसे ही आम आदमी पार्टी की सरकार आई तो वह इस पार्टी के ही मेंबर बन गए और उनका कब्जा जमीनों पर बरकरार है । ताजा उदाहरण दिल्ली के बुराड़ी विधानसभा में मुकुंदपुर के पास जनता विहार कॉलोनी के नजदीक सूरत विहार कॉलोनी के पास हजारों गज जमीन ग्राम सभा की है जिस पर नजर भू- माफियाओं की है ।

 कहीं ना कहीं भू- माफियाओं का प्रशासन और मौजूदा जनप्रतिनिधियों का भी संरक्षण होता है । सूरत विहार में तीन हजार गज की जमीन पर चार दिवारी कर कब्जा करने की कोशिश की गई। इस बात की शिकायत आसपास के लोगों ने स्थानीय विधायक और निगम पार्षद को की लेकिन किसी ने सहायता करनी तो दूर लोगों का आरोप है कि विधायक ने भू माफियाओं का ही पक्ष लिया और इस 3000 गज जमीन पर कंस्ट्रक्शन भी शुरू हो गया । कुछ कमरे भी बन गए अब ग्राम सभा की जमीन पर पूरी तरह कब्जा हो चुका था।


 यह शुरुआत है 3000 गज पर कब्जे की इसके बाद यह कब्जा आगे कई हजार गज जमीन खाली है उस तक बढ़ने की संभावना है।  इस समस्या को लेकर आखिर में स्थानीय निवासियों ने यहां एक सामाजिक तौर पर काम करने वाले राष्ट्रीय जनता दल के दिल्ली प्रदेश के उपाध्यक्ष शैलेंद्र कुमार से संपर्क किया और बताया कि इस तरह से कब्जा किया जा रहा है।  शैलेंद्र कुमार ने उन्हें आश्वासन दिया कि वे एक दिन में कब्जे को हटवा देंगे।  शैलेंद्र कुमार ने सूत्रों की मानें तो अगले ही दिन सुबह सुबह पूरा डेमोलेशन करवाकर ग्राम सभा की जमीन को खाली करवा दिया गया ।

अब यहां पर प्रशासन द्वारा सरकारी जमीन के बोर्ड लग गए है ।
अब लोगों का कहना है कि आगे विधानसभा में भी वे उसी जनप्रतिनिधि को वोट देंगे जो यह वायदा करेगा कि वह विधानसभा के ग्राम सभा की जमीनों को खाली करवाएंगे । ग्राम सभा की जमीनों को खाली करवा कर उन पर चारदीवारी कर दें ताकि आसपास के बच्चे वहां खेल सके और लोग उसे पार्क की तरह यूज कर सकें । साथ ही जरूरत है बची हुई ग्रामसभा की जमीन पर भी चारदीवारी कर दी जाए । वरना सारी ग्राम सभा को ऐसे ही भूमाफिया खा जाएंगे।

Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment