सलाखों के पीछे जाएगा हाफिज सईद, 12 समर्थकों पर भी मंडरा रहा खतरा

मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड आतंकी हाफिज सईद और उसको 12 सहयोगियों को बहुत जल्द गिरफ्तार किया जा सकता है. आतंकी फंडिंग मामले की जांच के लिए हाफिज सईद को गिरफ्तार किया जा सकता है. अब हाफिज सईद को गिरफ्तार करने के लिए सरकारी अनुमति की जरूरत नहीं होगी. बुधवार को इमरान खान सरकार ने आतंकी फंडिंग के मामले में हाफिज सईद और उसके 12 सहयोगियों के खिलाफ कार्रवाई की थी. पाकिस्तान सरकार की इस कार्रवाई पर भारत सरकार की भी नजर है. अब आतंकी हाफिज सईद को पाकिस्तान सरकार कभी भी गिरफ्तार कर सकती है. इससे पहले पाकिस्तान की कार्रवाई पर भारत सरकार ने कहा था कि हमने ऐसी कार्रवाई पहले भी देखी है, अब देखना होगा कि ये कार्रवाई कितने दिनों तक जारी रहेगी. पाकिस्तान सरकार ने बुधवार को जमाद-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद और उसके तीन अन्य सदस्यों के खिलाफ आतंकवाद के लिए धन उपलब्ध कराने के मामले में मामला दर्ज किया था. पंजाब आतंकवाद निरोधक विभाग ने हाफिज के प्रतिबंधित संगठन के खिलाफ यह कार्रवाई की है. आतंकवाद निरोधक कानून के तहत पांच प्रतिबंधित संगठनों के खिलाफ लाहौर, गुजरांवाला और मुल्तान में दावातुल इरशाद ट्रस्ट, मोएज बिन जवाल ट्रस्ट, अल अनफाल ट्रस्ट, अल मदीना फाउंडेशन ट्रस्ट और अलहमाद ट्रस्ट के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. इन मामलों में जिन्हें नामजद किया गया है, उनमें हाफिज सईद, अब्दुल रहमान मक्की, अमीर हमजा और मुहम्मद याहया अजीज शामिल हैं. साथ ही पाकिस्तान के काउंटर टेररिज्म डिपार्टमेंट ने 26/11 मुबंई हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के खिलाफ 23 मामले दर्ज किए हैं. साथ ही 12 अन्य के खिलाफ भी कार्रवाई की गई है जो आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा को आर्थिक मदद देते थे.
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment