नेशनल हेराल्ड केस में सुनवाई शुरू, स्वामी से सवाल कर रहे कांग्रेस के वकील-Loktantra Ki Buniyad

INX मीडिया केस में एक ओर पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम इस वक्त सीबीआई की हिरासत में हैं, इस मामले के बीच अब कांग्रेस के लिए एक और चुनौती सामने खड़ी है. शुक्रवार को राजधानी दिल्ली की राउज़ एवेन्यू कोर्ट में नेशनल हेराल्ड केस में सुनवाई हो रही है. इस मामले में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी समेत कई बड़े कांग्रेसी नेताओं के नाम हैं. ये याचिका राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने दायर की थी. शुक्रवार को कांग्रेस के वकील ने सुब्रमण्यम स्वामी से सवाल किए. शुक्रवार को हुई सुनवाई के लाइव अपडेट्: 10.57 AM: नेशनल हेराल्ड केस की सुनवाई दिल्ली की राउज़ एवेन्यू कोर्ट में शुरू हो गई है. कांग्रेस के वकील आर.एस. चीमा इस वक्त सुब्रमण्यम स्वामी से सवाल-जवाब कर रहे हैं. इससे पहले फरवरी में भी सुब्रमण्यम स्वामी से करीब 1 दर्जन से अधिक सवाल पूछे जा चुके हैं. पहले टल गई थी सुनवाई आज अदालत में कांग्रेस नेताओं की तरफ से वकील ने सुब्रमण्यम स्वामी से सवाल-जवाब किए. इससे पहले ये सुनवाई पहले ही होनी थी, लेकिन 5 जुलाई को स्वामी की ओर से अपील की गई थी कि अभी संसद का सत्र चल रहा है इसलिए तारीख को आगे बढ़ा दिया जाए. कांग्रेस के वकील आर.एस. चीमा की ओर से सुब्रमण्यम स्वामी के लिए 18 सवालों की लिस्ट तैयार की गई है.क्या है नेशनल हेराल्ड केस? आपको बता दें कि इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष (अंतरिम) सोनिया गांधी, उनके बेटे राहुल गांधी और अन्य कांग्रेस नेताओं पर आरोप लगे हैं. आरोप है कि कांग्रेस के फंड से 1938 में एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड (AJL) नाम की कंपनी खड़ी की गई, जो नेशनल हेराल्ड, नवजीवन और क़ौमी आवाज़. नाम के 3 अखबारों का संचालन करती थी. 1 अप्रैल 2008 को सभी अखबार बंद हो गए थे. इसके बाद कांग्रेस ने 26 फरवरी 2011 को इसकी 90 करोड़ रुपये की देनदारियों को अपने जिम्मे ले लिया था. पार्टी ने इसे 90 करोड़ का लोन दे दिया. इसके बाद 5 लाख रुपये से यंग इंडियन कंपनी (YIC) बनाई गई, जिसमें सोनिया और राहुल की 38-38 % हिस्सेदारी है. बाद में घालमेल कर यंग इंडियन के कब्जे में AJL कंपनी को कर दिया गया. इसके बाद कांग्रेस पार्टी ने 90 करोड़ का लोन भी माफ कर दिया. यानी 'यंग इंडियन' को एक प्रकार से मुफ्त में एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड नाम की कंपनी का मालिकाना हक मिल गया. अब इसी केस में BJP राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी का आरोप है कि यह सब कुछ दिल्ली में बहादुर शाह जफर मार्ग पर स्थित हेराल्ड हाउस की 1600 करोड़ रुपये की बिल्डिंग पर कब्जा करने के लिए किया गया है.
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment