इमरान बोले- भारत के खिलाफ पहले नहीं करेंगे परमाणु हमला- Loktantra Ki Buniyad

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव अपने चरम पर है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और उनके मंत्री लगातार युद्ध की चेतावनी देते रहे हैं. कश्मीर के मुद्दे पर दो परमाणु संपन्न पड़ोसी देशों के बीच युद्ध का जिक्र करते रहने के बावजूद जब पाकिस्तान अलग-थलग पड़ गया, तो अब पाकिस्तान के तेवर नरम पड़ने लगे हैं. पाकिस्तानी विदेश मंत्री के भारत से द्विपक्षीय वार्ता को तैयार रहने के बयान के ठीक बाद अब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के तेवर भी नरम पड़ गए हैं. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अब कहा है कि भारत के साथ युद्ध की स्थिति में पाकिस्तान परमाणु हथियारों का इस्तेमाल पहले नहीं करेगा. कश्मीर मामले पर वैश्विक मंचों पर अलग-थलग पड़े पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की विश्व समुदाय के खिलाफ बेचैनी भी साफ नजर आ रही है. हाल ही में उन्होंने भारत के साथ परमाणु युद्ध की गीदड़ भभकी दी थी. कश्मीर पर दुनिया में अलग-थलग पड़ चुके पीएम इमरान खान ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए यह जरूरी है कि वो व्यापार और व्यावसायिक फायदों के इतर सोचे. गौरतलब है कि हाल ही में इमरान ने कहा था कि परमाणु हथियारों से लैस भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध हुआ तो इसके परिणाम केवल दो देशों तक सीमित नहीं रहेंगे. दुनिया को इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे. इमरान ने अमेरिका से भी हस्तक्षेप करने की गुहार लगाई. फ्रांस में हाल ही में संपन्न हुए जी-7 समिट के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुलाकात भी हुई, लेकिन ट्रंप ने भी कह दिया कि दोनों देश बातचीत से आपसी मसले सुलझाएं. अलापा मुस्लिम राग, फिर भी नहीं मिला किसी का साथ पाक प्रधानमंत्री इमरान खान जब दुनिया में अलग-थलग पड़े तो मुस्लिम राग भी अलापा. इमरान ने कहा कि कश्मीर में मुसलमानों पर जुल्म हो रहा है, इसलिए दुनिया चुप है. लेकिन मुस्लिम राग अलापना भी इमरान के काम न आया और पाकिस्तान को मुस्लिम देशों का भी साथ नहीं मिला. इमरान के मंत्री ने बता दी थी युद्ध की तारीख इमरान खान के रेल मंत्री तो वाक युद्ध में उनसे भी दो कदम आगे नजर आए थे. पाकिस्तानी रेल मंत्री शेख राशिद ने भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध की तारीख भी बता दी थी. राशिद ने कहा था अक्टूबर-नवंबर के महीने में युद्ध होगा. राशिद समेत पाकिस्तान की इमरान सरकार के कई मंत्री भी लगातार युद्ध की धमकियां देते रहे.
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment