दाऊद इब्राहिम के करीबी इकबाल मिर्ची और प्रफुल्ल पटेल की डील? Loktantra Ki Buniyad

मुंबई: पूर्व केंद्रीय मंत्री और एनसीपी के वरिष्ठ नेता प्रफुल्ल पटेल पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की जांच की तलवार लटकी हुई है। ईडी कुख्यात गैंगस्टर दाऊद इब्राहिम के सहयोगी इकबाल मिर्ची और प्रफुल्ल पटेल के बीच एक कथित लैंड डील को लेकर जांच कर रही है। ईडी का आरोप है कि एनसीपी नेता के परिवार की ओर से प्रमोटेड कंपनी और इकबाल मिर्ची के बीच फाइनैंशल डील हुई थी। ईडी ने इस जमीन डील को लेकर प्रफुल्ल पटेल को समन भेजा है। उन्हें 18 अक्टूबर को पेश होने को कहा है। आइए जानते हैं क्या है पूरा मामला- इकबाल मिर्ची और प्रफुल्ल पटेल का लिंक ईडी ने इकबाल मिर्ची के परिवार से एक फाइनैंशल डील के सिलसिले में प्रफुल्ल पटेल पर शिकंजा कसा है। ईडी का आरोप है कि इस डील के तहत मिलेनियम डिवेलपर्स को मिर्ची का वर्ली स्थित एक प्‍लॉट दिया गया था। इसी प्लॉट पर मिलेनियम डिवेलपर्स ने 15 मंजिला कमर्शल और रेजिडेंशल इमारत का निर्माण किया है। इसका नाम सीजे हाउस रखा गया है। इसके बाद 2007 में कंपनी ने कथित तौर पर सीजे हाउस में 14 हजार वर्ग फीट के दो फ्लोर मिर्ची की बीवी हाजरा को एक रजिस्‍टर्ड अग्रीमेंट के तहत दे दिए गए। कौन है इकबाल मिर्ची? इकबाल मिर्ची, अंडरवर्ल्ड डॉन और 1993 में मुंबई में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों के प्रमुख आरोपी दाऊद इब्राहिम का करीबी सहयोगी था। अगस्त 2013 में अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के करीबी सहयोगी इकबाल मिर्ची की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई थी। वह 1993 में मुंबई में हुई सीरियल ब्लास्ट मामले के आरोपियों में शामिल था। 63 साल का मिर्ची भारत में ड्रग तस्करी के आरोपों का भी सामना कर रहा था। वह आईपीएल मैच फिक्सिंग और सट्टेबाजी को लेकर भी जांच के दायरे में था। ड्रग तस्करी और आतंकवाद के आरोपों के चलते 1995 में स्कॉटलैंड यार्ड की पुलिस ने उसे गिरफ्तारी किया था, लेकिन 1999 में जांच में आपराधिक गतिविधि का कोई सुबूत नहीं मिलने पर 2001 में उसे ब्रिटेन में रहने की अनिश्चितकालीन छूट दे दी गई। उसे 2011 में एक व्यक्ति को मारने की धमकी देने के आरोप में पकड़ा गया था, लेकिन इस मामले में भी सुबूत नहीं मिलने पर उसे छोड़ दिया गया। दोनों बार सीबीआई ने उसके भारत प्रत्यर्पण की मांग की, लेकिन विदेश मंत्रालय के दखल के बावजूद ब्रिटेन ने इसे नहीं माना। इकबाल की पत्नी से प्रफुल्ल की कंपनी की डील ईडी के दावे के मुताबिक, इकबाल मिर्ची की पत्नी हजरा मेमन ने पटेल के परिवार से एक प्रॉपर्टी डील की थी। ईडी ने दावा किया कि प्रफुल्ल पटेल द्वारा संचालित फर्म, मिलेनियम डेवलपर्स ने 2007 में मुंबई के सीजे हाउस में दो मंजिलों को 'जमीन पर इकबाल मिर्ची के लाभकारी हितो' के लिए हजरा को ट्रांसफर कर दिया था। मिर्ची ने अधिकांश प्रॉपर्टी अपनी बीवी और अपने बेटों के नाम खरीदी थी। वर्ली की प्राइम लोकेशन पर उनके कई प्‍लॉट हैं। वर्ली में जिस प्‍लॉट पर 1980 के दशक में मिर्ची का डिस्‍कोथेक 'फिशरमैंस वार्फ' बना था वह भी हाजरा के ही नाम था। ईडी को 1999 से 2007 के बीच जमीन के मालिकाना हक वाले कागज भी मिल गए हैं। बताया जाता है कि एक दस्‍तावेज में हाजरा और मिलेनियम डिवेलपर्स के बीच इस प्‍लॉट को फिर से डिवेलप करने की हुई डील के सबूत हैं। ईडी का दावा? ईडी का आरोप है कि प्रफुल्ल पटेल के परिवार की ओर से प्रमोटेड कंपनी और इकबाल मिर्ची के बीच फाइनैंशल डील हुई थी। ईडी के सूत्रों के मुताबिक, इस डील के तहत पटेल परिवार की प्रमोटेड कंपनी मिलेनियम डिवेलपर्स को इकबाल मिर्ची का वर्ली स्थित एक प्‍लॉट दिया गया था। यहां कंपनी द्वारा 15 मंजिला कमर्शल और रेजिडेंशल इमारत का निर्माण किया जिसका नाम सीजे हाउस रखा गया। इसके बाद 2007 में कंपनी ने कथित तौर पर सीजे हाउस में 14 हजार वर्ग फीट के दो फ्लोर मिर्ची की बीवी हाजरा को एक रजिस्‍टर्ड अग्रीमेंट के तहत दे दिए गए। ईडी ने इस मामले में प्रफुल्ल पटेल को समन भेजकर 18 अक्टूबर को पेश होने के लिए कहा है। प्रफुल्ल पटेल की सफाई उधर, एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल ने अपनी फैमिली और इकबाल मिर्ची के बीच फाइनैंशल डील पर सफाई दी। उन्होंने कहा कि इकबाल मेमन के साथ जिस जमीन की डील को लेकर आरोप लग रहे हैं, वह पूरी तरह कानूनी रूप से हुई थी। उन्होंने जमीन का पूरा इतिहास बताते हुए साफ किया कि किस तरह विवादित जमीन को 1990 में ही बॉम्बे हाई कोर्ट की निगरानी में एक शख्स एम.के. मोहम्मद द्वारा हजरा इकबाल मेमन को बेचा गया था। उन्होंने कहा कि उसके बाद मेरे पटेल परिवार के कुछ विवाद हुए और इसके बाद इकबाल मेमन के साथ साल 2004 में जमीन को लेकर डील हुई। यह डील रजिस्ट्रार के सामने हुई। सारे दस्तावेज कलेक्टर के सामने रखे गए। अगर इकबाल मेमन दागी था, तो उस वक्त ही प्रशासन इस डील पर रोक लगा देता।
Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment