फिर मुश्किल होगा दिल्ली में साँस लेना - Loktantra Ki Buniyad

नई दिल्ली:  कई दिनों से लोग नीले आसमान को देख काफी खुश हो रहे थे। लग रहा था जैसे हवा की गुणवत्ता में सुधार आ गया हो। लेकिन अब दिल्ली की आबो-हवा फिर से बदलने वाली है और यह फिर से प्रदूषित हो सकती है। मौसम विभाग के अनुसार, दिल्ली में हवा बहने की दिशा में परिवर्तन होने और पश्चिमी इलाकों में पराली जलाने की वजह से पैदा होने वाला धुआं दिल्ली की हवा को अपनी जद में ले लेगा। गौरतलब है कि इन दिनों में पंजाब और हरियाणा में पराली जलाई जाती है, जिससे निकलने वाला धुआं उसी दिशा में फैलता है, जिसमें हवा का बहाव होता है। पिछले काफी वक्त से दिल्ली की हवा की दिशा बदली हुई थी, जिस कारण आसमान एकदम साफ और नीला दिखाई दे रहा था। लेकिन अब एक बार फिर दिल्ली की हवा की दिशा बदलने वाली है और इससे सांस लेना भी मुश्किल सा हो जाएगा। उत्तर और उत्तर पश्चिम की दिशा से बहेगी हवा बता दें कि गुरुवार को दिल्ली की हवा की गुणवत्ता 141 AQI थी, लेकिन हल्की-फुल्की बारिश होने की वजह से यह आंकड़ा शुक्रवार को 141 से 100 पर आ गया। SAFAR यानी केंद्र संचालित सिस्टम आफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग के अनुसार, हवा का रुख बदलने के बाद आने वाले 2 से 3 दिनों में वायु की गुणवत्ता में थोड़ा-बहुत बदलाव आने के आसार हैं। हालांकि प्रदूषण का स्तर ज्यादा नहीं होगा। एसएएफएआर के अनुसार, दिल्ली और आसपास के इलाकों में हुई हल्की-फुल्की बारिश की वजह से वातावरण में मौजूद प्रदूषक तत्व और अन्य जहरीले कण बह गए। लेकिन अब हवा उत्तर और उत्तर पश्चिम की तरफ से बहेगी। इसके कारण धूल और प्रदूषण धीरे-धीरे दिल्ली की और आने लगेगा। शनिवार को एयर क्वॉलिटी में थोड़ी और गिरावट आने के आसार हैं। वायु की गुणवत्ता की जांच कैसे की जाती है? वायु की गुणवत्ता की जांच के लिए एक सिस्टम होता है जिसका नाम है एयर क्वॉलिटी इंडेक्स। इसे AQI के नाम से भी जाना जाता है। अच्छी गुणवत्ता वाली हवा का AQI 0 से 50 के बीच होता है, जबकि 101 MS 200 के बीच के AQI को मध्यम, 201 से 300 के बीच एक्यूआई को खराब और 401 से 500 के बीच को बेहद खराब माना जाता है।
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment