जम्मू-कश्मीर में खौफनाक वारदात के बाद ममता बनर्जी ने कहा- वापस लाए जा रहे हैं 131 मजदूर

कोलकाता जम्मू-कश्मीर में पांच मजदूरों की हत्या के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि 131 मजदूर, जो कश्मीर गए थे, उन्हें राज्य सरकार की मदद से वापस पश्चिम बंगाल लाया जा रहा है। वे मजदूर मुर्शिदाबाद, दिनाजपुर और मालदा से हैं। बता दें कि जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले में मंगलवार को आतंकियों ने पांच मजदूरों को उनके किराए के घर से घसीटकर बाहर निकालकर उनकी गोली मारकर हत्या कर दी थी। मुर्शिदाबाद से ही ताल्लुक रखने वाला एक अन्य मजदूर हमले में गंभीर रूप से जख्मी हो गया था और उसका श्रीनगर के एक अस्पताल में इलाज चल रहा है। इस घटना के बाद राज्य की ममता सरकार ने मृतकों के परिवारवालों को 5-5 लाख रुपये के चेक सौंपे थे।सूत्रों के मुताबिक, 7वां व्यक्ति खाना लेने के लिए बाहर गया हुआ था इसलिए वह बच गया, लेकिन वह सदमे में है। उसे बुधवार को कोलकाता लाया गया और एसएसकेएम अस्पताल में भर्ती कराया गया। मृतकों की पहचान नईमुद्दीन शेख, मुरसलीम शेख, रफीक शेख, कमरुद्दीन शेख और रफीक उल शेख के तौर पर हुई है। राज्य के शहरी विकास मंत्री फिरहाद हाकिम ने कश्मीर में सुरक्षा स्थिति को लेकर बीजेपी नीत केंद्र सरकार की आलोचना करते हुए हालिया हमलों के मद्देनजर आर्टिकल 370 के अधिकतर प्रावधानों को हटाने के औचित्य के बारे में जानना चाहा। अमित शाह की चुप्पी पर सवाल हाकिम बुधवार रात को मजदूरों के शवों को लेने के लिए कोलकाता हवाई अड्डे पहुंचे थे। उन्होंने घटना पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की चुप्पी पर सवाल उठाया। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि देश के नागरिकों को मारा जा रहा है और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह चुप हैं। जब इतने लोगों को मारा जा रहा है तो घाटी से आर्टिकल 370 को हटाने का क्या औचित्य? उन्होंने कहा कि इसका मतलब है कि घाटी में आतंकी गतिविधियां बंद नहीं हुई हैं।
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment