5 साल शिवसेना का मुख्यमंत्री होने पर कांग्रेस को ऐतराज नहीं: सूत्र

मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार बनाने की कवायद के बीच सभी की निगाहें कांग्रेस (Congress) की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) और एनसीपी (NCP) चीफ शरद पवार (Sharad Pawar) पर टिकी हैं. खबर आ रही है कि सोनिया गांधी के साथ चल रही मीटिंग में कांग्रेस नेताओं को साफ़ निर्देश दिए गए हैं कि नेगोशिएशन में किसी भी तरह की जल्दबाजी नहीं की जाये. बताया जा रहा है कि कांग्रेस, सरकार में शामिल होने के लिए तैयार है, लेकिन सरकार बनाने की कोई जल्दी नहीं है. वहीं 'कौन बनेगा सीएम' के सवाल पर कांग्रेस को शिवसेना का मुख्यमंत्री होने पर कोई ऐतराज नहीं है. वहीं बताया जा रहा है कि जन सरोकार के मंत्रालय पार्टी की पहली पसंद होंगे. इन मंत्रालय पर कांग्रेस की नज़र जानकारी के मुताबिक कुछ मंत्रालय चिन्हित किए गए हैं जिन्हें कांग्रेस पार्टी मांगेगी. जिनमें ग्रामीण विकास, पीडब्ल्यूडी, बिजली, पशुपालन जैसे विभाग हैं, ताकि पार्टी का जनाधार बढ़ाने में मदद मिले. इसके अलावा भविष्य में होने वाले चुनावों में तीनों पार्टियों की किस रणनीति का पालन करेंगी यह भी सरकार बनने से पहले ही सुनिश्चित किया जाएगा. सरकार बनाने के सवाल पर सोनिया ने साध ली थी चुप्पी वहीं जब बुधवार को महाराष्ट्र में सरकार बनाने के संबंध में सोनिया गांधी से सवाल किया गया तो उन्होंने नपा-तुला सा जवाब दे डाला. संसद के बाहर जब उनसे पूछा गया कि शिवसेना (Shiv Sena) नेता संजय राउत (Sanjay Raut) ने सरकार बनाने का दावा किया है और उन्होंने कहा है कि दो दिन में महाराष्ट्र में सरकार की तस्वीर साफ हो जाएगी तो उन्होंने कहा- नो कमेंट्स.
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment