6 नवंबर को बीजेपी सरकार बनाने का दावा पेश कर सकते हैं देवेंद्र फडणवीस- Loktantra Ki Buniyad

मुंबई: महाराष्‍ट्र में सरकार बनाने को लेकर बीजेपी और शिवसेना के बीच जारी तल्‍खी के बीच निवर्तमान मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी द्वारा तय की गई समयसीमा से पहले ही छह नवंबर को सरकार बनाने का दावा पेश कर सकते हैं। हालांकि बीजेपी के पास सरकार बनाने के लिए जरूरी संख्‍या बल नहीं है। इन चर्चाओं के बीच फडणवीस आज नई दिल्‍ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात करने के लिए जा रहे हैं।केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले के नेतृत्‍व में गत शनिवार को राज्‍यपाल से मुलाकात करने गए प्रतिनिधिमंडल से कोश्‍यारी ने कहा था कि अगर सात नवंबर तक कोई पार्टी सरकार बनाने का दावा नहीं करती है तो वह खुद इस गतिरोध को सुलझाने के लिए सलाह-मशविरा करेंगे। महाराष्‍ट्र विधानसभा का मौजूदा कार्यकाल नौ नवंबर को खत्‍म हो रहा है। ऐसे में 10 नवंबर तक या इससे पहले नए मुख्‍यमंत्री को पदभार ग्रहण कर लेना होगा। ऐसा न हो पाने की स्थिति में यहां राष्‍ट्रपति शासन लागू हो सकता है। फडणवीस को कुछ निर्दलीयों का भी समर्थन सूत्रों का कहना है कि फडणवीस को कुछ निर्दलीय विधायकों का समर्थन भी प्राप्‍त है, ऐसे में वह छह नवंबर को राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी को सरकार बनाने का दावा करने का पत्र सौंप सकते हैं। इसके बाद राज्‍यपाल फडणवीस से 288 सदस्‍यीय विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए जरूरी 145 विधायकों की संख्‍या होने संबंधी पत्र देने के लिए कह सकते हैं या फिर सदन में बहुमत साबित करने के लिए समय दे सकते हैं।गौरतलब है कि 24 अक्‍टूबर को विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के 12 दिन बाद भी महाराष्‍ट्र में सरकार बनाने को लेकर बीजेपी और शिवसेना के बीच रस्‍साकसी जारी है। शिवसेना ढाई-ढाई साल के लिए सीएम पद बांटने की मांग पर अड़ी हुई है। बीजेपी के पास 105 तो शिवसेना के पास 56 विधायक हैं। सरकार बनाने के लिए इनके पास जरूरी आंकड़ा (161) है, पर दोनों दलों के शीर्ष नेता अब तक इस मुद्दे को सुलझा नहीं पाए हैं। संजय राउत ने अजित पवार को भी किया मेसेज शिवसेना के सांसद संजय राउत बीजेपी नेतृत्‍व पर लगातार दबाव बनाए हुए हैं। रविवार को उन्‍होंने दावा किया कि शिवसेना के पास कुल 175 विधायकों का समर्थन है और वह अपने दम पर अकेले सरकार बना सकती है। संजय राउत चुनाव नतीजे आने के बाद दो बार एनसीपी चीफ शरद पवार से मुलाकात कर चुके हैं। एनसीपी नेता अजित पवार भी कह चुके हैं कि उन्‍हें रविवार को संजय राउत ने मेसेज किया था और वह जल्‍द ही उनसे बात करेंगे। ऐसे में यह चर्चा भी है कि शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के समर्थन से सरकार बना सकती है पर अभी तक इस दिशा में कोई ठोस कदम नहीं उठाए जा सके हैं।शिवसेना को समर्थन देने के पक्ष में कांग्रेस! दूसरी ओर, कांग्रेस के भी कुछ नेता शिवसेना को समर्थन देने की बात कर रहे हैं। कांग्रेस के राज्‍यसभा सांसद हुसैन दलवई ने इस संबंध में पार्टी अध्‍यक्ष सोनिया गांधी को पत्र भी लिखा है। उनका कहना है कि प्रणब मुखर्जी और प्रतिभा पाटील की राष्‍ट्रपति पद की उम्‍मीदवार में शिवसेना ने कांग्रेस का समर्थन किया था, ऐसे में अब कांग्रेस को भी शिवसेना की मदद करनी चाहिए। इस मुद्दे पर आज दिल्‍ली में कांग्रेस और एनसीपी नेताओं के बीच बैठक भी है। किसानों से मिलने अलग-अलग गए उद्धव व फडणवीस वहीं, शिवसेना अध्‍यक्ष उद्धव ठाकरे और देवेंद्र फडणवीस दोनों ही नेता रविवार को बारिश से प्रभावित किसानों का हालचाल जानने के लिए अलग-अलग इलाकों में गए। दोनों ने सरकार स्थापना के मुद्दे पर मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए एक ही बात कही। जहां उद्धव ने कहा कि कुछ दिनों में स्थिति साफ होगी, वहीं फडणवीस ने कहा कि जल्‍द ही सरकार बनाने को लेकर जारी संशय समाप्‍त हो सकता है।
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment