पिकनिक पर जाएं, तो रखें सुरक्षा का ध्यान - Picnic and Security


यदि आप पिकनिक पर कहीं बाहर जा रहे हैं तो घर और परिवार की सुरक्षा को लेकर सावधान हो जाएं, क्योंकि मकानों व दुकानों में चोरी की वारदातें अब आम बात हैं। राजमार्ग पर भी लुटेरे आए दिन वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। 

चोरी से पहले करते हैं रेकी

जिले में चोर इस कदर सक्रिय हैं कि किसी भी मकान पर ताला लटका देखते ही कुछ ही समय में मकान में घुसकर जेवरात व नकदी पर हाथ साफ कर देते हैं। पहले हुई कुछ वारदातों के खुलासे में यह भी सामने आया था कि चोर गिरोह में कबाड़ा बीनने वाले कुछ बच्चे भी शामिल होते हैं, जो वारदात में लिप्त तो रहते हैं कि साथ ही अपने सरगना के लिए रेकी भी करते हैं। मकान में यदि ताला लटका न भी हो तो मकान में अंधेरा होने या अन्य हरकत से भी अंदर किसी के होने या न होने का भी अंदाजा लगा लेते हैं। ये मकान के आस-पास के घरों के लोगों की गतिविधियों पर भी नजर रखते हैं। मकान में घुसने और पता चलने पर वहां निकलने के लिए वैकल्पिक रास्ते का भी ध्यान रखते हैं।

दुकानों पर भी रहती है नजर

आमतौर पर खुली रहने वाली दुकान यदि दो चार दिन नियमित रूप से बंद रहती है तो चोर रेकी शुरू कर देते हैं। आस-पास की दुकानों पर किसी सामान के खरीदते समय दुकान के न खुलने का कारण पूछते हैं। जब वह आश्वस्त हो जाते हैं कि दुकानदार किसी काम से बाहर गया है तो रात में चोरी की वारदात को आसानी से अंजाम देते हैं। शटर के ताले तोड़ने में समय लगता है, इसलिए चोर अब लोहे की राड़ की मदद से शटर को उखाड़ देते हैं। यदि दुकान में छत या पीछे से जगह तो वहां से सेंध लगा देते हैं।

राजमार्ग पर लुटेरे गेंग भी सक्रिय

पिछले कुछ माह में राजमार्ग पर मोटरसाइकिल और बोलेरो गाड़ी सवार बदमाशों द्वारा कई वारदातों को अंजाम दिया गया है। पिछले दिनों ठक-ठक गिरोह ने भी कई वारदातें की। ठक-ठक गिरोह गाड़ी से तेल रिसने या धुआं निकलने की बात कहकर वाहन चालकों रुकवाते हैं और गाड़ी रुकते ही चोरी या लूट की वारदात को अंजाम देते हैं, जबकि मोटरसाइकिल व बोलेरो जैसी गाड़ी सवार गाड़ी के आगे अड़ाकर रुकवाते हैं। जब तक वाहन चालक रुकवाने का कारण समझता है, वह उन्हें बंधक बनाकर लूट लेते हैं।

------

यह बरतें सावधानियां

  1. -घर से बाहर जाएं, तो किसी पड़ोसी या रिश्तेदार को घर पर छोड़कर जाने का प्रयास करें।
  2. -बाहर का मुख्य ताला लगाने की बजाय सेंट्रल लॉक का इस्तेमाल करें।
  3. -रात में घर में ट्यूबलाइट जलाकर रोशनी करके जाएं।
  4. -यदि एक से अधिक दिनों के लिए बाहर जाएं तो अखबार व दूध देने वाले से मना करके जाएं।
  5. -घर में खड़े दूसरे वाहनों को अच्छी तरह लॉक करके जाएं।
  6. -दुकान के शटर में साइड लॉक के अलावा सेंट्रल लॉक की व्यवस्था अवश्य करें।
  7. -हो सके तो मुख्य द्वार व अंदर सीसीटीवी कैमरे लगवाएं।
  8. -राजमार्ग पर सुनसान इलाके में वाहन को न रोकें।
  9. -यदि गाड़ी खराब हो जाए तो पुलिस को अवश्य सूचित करें।
  10. -अनजान लोगों के लिए गाड़ी न रोकें और न ही लिफ्ट दें।
  11. -बस से बाहर जा रहे हैं निजी वाहनों में लिफ्ट न लें।
  12. -किसी के गाड़ी खराब होने की बात कहने पर भी गाड़ी न रोकें, सुरक्षित स्थान पर ही गाड़ी रोकें।
  13. -दुकान व मकान में कितनी जेवरात व नकदी न रखकर जाएं, उन्हें किसी रिश्तेदार या बैंक लॉकर में रखकर जाएं।
  14. -अंजान व्यक्ति द्वारा रुकवाने पर गाड़ी का शीशा न खोलें।

Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment