यूपी के बाहुबली मुख्तार अंसारी की बुलेट प्रूफ एंबुलेंस पर नया खुलासा, जानें कहां तैयार की गई


 

बाहुबली से विधायक का सफर तय करने वाले यूपी के मऊ से पांच बार विधायक रहे मुख्यार अंसारी कि मोहाली कोर्ट में पेशी के लिए इस्तेमाल की जा रही बुलेट प्रूफ एंबुलेंस चंडीगढ़ में नहीं बल्कि पंजाब में बनाई गई थी। एंबुलेंस को लेकर पंजाब सरकार व पुलिस बचाव का रुख अख्तियार करने में लगी हैं, लेकिन उत्तर प्रदेश पुलिस ने इसकी जानकारी जुटा ली है कि एंबुलेंस को 2013 में पंजाब में बुलेट प्रूफ किया गया था। एंबुलेंस को बुलेट प्रूफ तैयार करने के लिए मुख्यार के खासमखास उद्योगपति ने अहम भूमिका निभाई थी। उक्त उद्योगपति का फैब्रीकेशन का बड़ा कारोबार है।मुख्तार को लेकर बुलेट प्रूफ एंबुलेंस पर मचे बवाल के बाद उत्तर प्रदेश के बाराबंकी के सदर थाने की पुलिस ने भाजपा की नेता डॉ. अलका राय के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। यह केस बाराबंकी एआरटीओ की शिकायत पर दर्ज किया गया है। यूपी 41 एटी 7171 नंबर की यह एंबुलेंस साल 2013 में बाराबंकी से रजिस्टर की गई थी। इस एंबुलेंस को मऊ के संजीवनी अस्पताल के नाम पर रजिस्टर किया गया था। इस पर संजीवनी हॉस्पिटल के डायरेक्टर डा एसएन राय के साइन भी है।


एंबुलेंस को लेकर मचे घमासान के बीच जिस डॉक्टर के खिलाफ केस दर्ज किया गया है वह मऊ जिले के चांदपुर गांव की रहने वाली हैं यह चांदपुर गांव मुख्तार अंसारी के गांव यूसुफपुर से महज सात किलोमीटर की दूरी पर है। अपने बयानों में बीजेपी के नेता डॉ अलका राय ने मुख्तार अंसारी से किसी भी प्रकार का संबंध होने से इनकार किया है।

Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment