अमीरों पर टैक्स लगाने में भारत अब भी पीछे

मोदी सरकार के आम बजट में अमीरों को झटका देते हुए सरचार्ज बढ़ाने का फैसला लिया गया है. सरकार के इस फैसले का रेवेन्‍यू सेक्रेटरी अजय भूषण पांडे ने बचाव किया है. उन्‍होंने कहा कि भारत में व्यक्तिगत आयकर की उच्चतम दरें अब भी अमेरिका, चीन और दक्षिण अफ्रीका सहित कई अन्य देशों के मुकाबले कम है. अजय भूषण पांडे के मुताबिक चीन और दक्षिण अफ्रीका में व्यक्तिगत आयकर की उच्चतम दर 45-45 फीसदी और अमेरिका में 50.3 फीसदी है. अजय भूषण पांडे ने कहा कि सरचार्ज में इजाफे से पहले भारत में अधिकतम टैक्स की दर 35.88 फीसदी था. यह दूसरे देशों के मुकाबले कम है. उन्‍होंने बताया कि ब्रिटेन में टैक्‍स की दर 45 फीसदी, जापान में 45.9 फीसदी, कनाडा में 54 फीसदी और फ्रांस में 66 फीसदी है. उन्होंने आगे कहा, 'भारत में हमारी अधिकतम टैक्‍स दर 35 फीसदी थी इसलिए समानता और भुगतान क्षमता की दृष्टि से क्या 10 लाख रुपये और 10 करोड़ रुपये की आमदनी वालों को बराबर दर से कर चुकाना चाहिए?' पांडे के मुताबिक 11-14 लाख रुपये की बीच की आमदनी वाले लोगों के पास कुछ तो बचत करने का मौका होना चाहिए इसलिए जो लोग ज्यादा कमा रहे हैं, उन्हें ज्यादा टैक्‍स देना ही चाहिए.' बता दें कि आम बजट में 2 से 5 करोड़ रुपये की सालाना व्यक्तिगत आय पर टैक्‍स सरचार्ज की दर 15 से बढ़ाकर 25 फीसदी और 5 करोड़ रुपये से अधिक की आमदनी वालों पर सरचार्ज 37 फीसदी कर दिया. सरचार्ज में इजाफे के बाद 2-5 करोड़ रुपये तक की व्यक्तिगत आय पर टैक्‍स का कुल बोझ बढ़कर 35.88 से बढ़कर 39 फीसदी और 5 करोड़ रुपये से अधिक की आमदनी पर 35.88 से बढ़कर 42.7 फीसदी हो जाएगा.'
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment