रोहित शर्मा ने लगाया तीसरा शतक, तोड़ डाले कई बड़े रिकॉर्ड्स- Loktantra Ki Buniyad

रांची. साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच के पहले दिन के पहले सेशन में भारतीय टीम की हालत खराब हो गई थी, लेकिन सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने पारी को संभालते हुए अपने टेस्ट करियर का छठा शतक जड़ दिया. इसी के साथ टेस्ट क्रिकेट में उनके दो हजार रन भी पूरे हो गए हैं. यह उनका 30वां टेस्ट मैच है. इस सीरीज में रोहित का यह तीसरा शतक है. पहले टेस्ट मैच की दोनों पारियों में उनके बल्ले से दो शतक निकले थे. इसी के साथ रोहित विदेशी जमीं पर एक भी शतक लगाए बिना घर में सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले दुनिया के दूसरे खिलाड़ी बन गए हैं. उन्होंने सभी छह‌ शतक घर में ही लगाए हैं. उनसे पहले बांग्लादेश के मोमिनुल हक इस लिस्ट में शीर्ष पर हैं. हक ने विदेशी जमीं पर एक भी शतक लगाए बिना घर में आठ शतक लगाए हैं. रोहित शर्मा ने अपनी इस पारी में किसी एक टेस्ट सीरीज में सबसे ज्यादा छक्के लगाने का रिकॉर्ड भी तोड़ दिया है. उन्होंने इस सीरीज में अभी तक 16 छक्के लगाकर वेस्टइंडीज के शिमरॉन हेटमायर का वर्ल्ड रिकॉर्ड भी तोड़ दिया है. हेटमायर ने बांग्लादेश के खिलाफ 2018-2019 सीरीज में 15 छक्के लगाए थे. रोहित शर्मा ने हरभजन सिंह के भारतीय रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया है. हरभजन सिंह (14) एक टेस्ट सीरीज में सबसे ज्यादा छक्‍के लगाने वाले भारतीय खिलाड़ी थे. रोहित शर्मा ने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में भी सबसे ज्यादा छक्के लगाने के मामले में इंग्लैंड के ऑल राउंडर बेन स्टोक्स को भी पीछे छोड़ दिया है. चार पारियों में रोहित ने अभी तक 14 छक्के लगा दिए हैं, जबकि स्टोक्स ने विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में अभी तक 13 छक्के लगाए हैं. 45वें ओवर की चौथी गेंद पर भारत के हिटमैन ने डीन पीट की गेंद को घुटनों के बल पर लॉन्ग ऑफ के ऊपर से गेंद को बाउंड्री के पार पहुंचा दिया. इसी के साथ उन्होंने गौतम गंभीर के रिकॉर्ड की भी बराबरी कर ली है. सबसे ज्यादा मौकों पर छक्का लगाकर टेस्ट शतक पूरा करने वाले वह तीसरे भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं. उन्होंने दो बार छक्को के साथ टेस्ट शतक पूरा किया. उनसे पहले छह बार सचिन तेंदुलकर तो और दो बार गौतम गंभीर गेंद को बाउंड्री के पार पहुंचाकर टेस्ट शतक पूरा कर चुके हैं. सीरीज में रोहित शर्मा (Rohit Sharma) का तीसरा शतक है और एक सीरीज में तीन या उससे ज्यादा टेस्ट शतक जड़ने वाले वह भारत के दूसरे ओपनर बन गए हैं. उनसे पहले सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar ) ऐसा कर चुके हैं. उन्होंने तीन अलग-अलग सीरीज में ऐसा किया. 1970-71 में गावस्कर ने वेस्टइंडीज के खिलाफ उनकी ही जमीं पर एक सीरीज में चार शतक, 1978-79 में घर में कैरेबियाई टीम के खिलाफ घरेलू सीरीज में चार शतक और 1977-78 में ऑस्ट्रेलियाई जमीं पर गावस्कर ने उन्हीं के खिलाफ सीरीज में तीन शतक लगाए थे.
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment