क्या है बिहार में वैक्सीनेशन के लिए केवल कोवैक्सीन के इस्तेमाल वाली खबर की सच्चाई?

 


पिछले दिनों कई अखबारों और टीवी चैनलों में यह खबर आयी थी कि बिहार सरकार ने यह निर्णय लिया है कि राज्य में सिर्फ कोवैक्सीन के टीके लगाए जाएंगे. ऐसे में लोगों के मन में वैक्सीन के प्रति संदेह पैदा होने लगा था. ऐसे में इस खबर पर राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने प्रतिक्रिया देते हुए इस खबर को गलत बताया है.

दोनों टीकों की भारत सरकार कर रही है सप्लाई

राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने बताया कि कोवैक्सीन और कोविशील्ड दोनों टीके की सप्लाई भारत सरकार ओर से की जा रही है. यह कहना बिल्कुल सही नहीं होगा कि बिहार सरकार ने सिर्फ कोवैक्सीन टीका इस्तेमाल करने का निर्णय लिया है. ऐसी बातों से लोगों के मन में संदेह पैदा हो सकता है.

दोनों टीके हैं प्रभावी

कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने बताया कि दोनों टीके कोरोना के खिलाफ समान रूप से प्रभावी हैं. लोगों को डरने की कोई जरूरत नहीं है. साथ ही बिहार में दोनों टीके समान रूप से इस्तेमाल भी किए जा रहे हैं.

बता दें कि बिहार समेत पूरे देश में कोरोना वैक्सीनेशन के दूसरे चरण की शुरुआत हो चुकी है. इस फेज में 60 वर्ष से अधिक के लोगों को वैक्सीन देने की व्यवस्था की गयी है. वैसे लोग जो 45 वर्ष से अधिक वर्ष के वैसे व्यक्ति जो किसी बीमारी से ग्रसित हैं उन्हें भी वैक्सीन लगाई जाएगी. इस चरण के वैक्सीनेशन में सूबे के मुखिया नीतीश कुमार समेत कई अन्य जनप्रतिनिधियों ने भी वैक्सीन लगवाई है.

Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment