बिहार, झारखंड और यूपी में आंधी-तूफान और बिजली गिरने से 39 लोगों की मौत, कई घायल- many-died-and-injured-after-thunderstorm

पटना/लखनऊ/रांची :भीषण गर्मी के बीच सोमवार शाम को आए आंधी-तूफान के कारण उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में कम से कम 39 लोगों की मौत हो गई। कई लोग घायल भी हुए हैं, जिनका अस्पतालों में इलाज चल रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आंधी-तूफान से बिहार में कुल 17 लोगों की मौत की खबर है। वहीं, झारखंड में 13 लोग काल के गाल में समा गए। यूपी में 9 लोगों की जान चली गई और कई अन्य घायल हो गए। बेहाल कर देने वाली गर्मी के बीच सोमवार को झमाझम बारिश से उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में तापमान जरूर गिरा है लेकिन आंधी-तूफान और आकाशीय बिजली गिरने से अलग-अलग हिस्सों में लोगों की जानें भी गई हैं। बिहार के कई हिस्सों में तेज हवाएं चलने से रास्ते में पेड़ गिर गए। बिहार में भारी नुकसान, झारखंड में 13 की मौत बिहार में आंधी-पानी, बिजली और दीवार गिरने से जानमाल का भारी नुकसान हुआ है। यहां सबसे ज्यादा नुकसान औरंगाबाद में हुआ है जहां 5 लोग आंधी-पानी की चपेट में आ गए। इसके अलावा कटिहार, नवादा, मुंगेर और रोहतास में भी जानमाल के नुकसान की खबरें है। वहीं, झारखंड में 13 लोगों की मौत हो गई है और 25 से ज्यादा लोग घायल हो गए। इस बीच बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने तूफान में जान गंवाने वाले लोगों के परिवार वालों को 4 लाख रुपये आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है। UP में 9 की मौत, उन्नाव में भारी तबाही आंधी-पानी की चपेट से यूपी भी नहीं बच पाया। प्रदेश में अब तक कुल 9 लोगों के मारे जाने की खबर है। यहां उन्नाव जिले में आकाशीय बिजली गिरने से 5 लोगों की मौत हो गई। जलभराव और बड़ी संख्या में पेड़ गिरने से यातायात भी प्रभावित हुआ। यूपी के उन्नाव में 5, रायबरेली में 2, कानपुर नगर में 2 लोगों की जान चली गई। इसके अलावा उन्नाव में 5 और रायबरेली में 2 लोगों के घायल होने की खबर है। मौसम वैज्ञानिकों ने इसे प्री-मॉनसून बारिश बताया है, जिसके लक्षण तीन-चार दिन पहले से बन रहे थे। तेज हवा के साथ बारिश और बिजली गिरने के चलते बिहार के सासाराम, कटिहार, औरंगाबाद, नवादा जिले में लोगों की जानें गई हैं। गांवों में आंधी से सैकड़ों घरों के छप्पर उड़ गए। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक गया जिले में पॉल्ट्री फार्म की दीवार गिरने से एक हजार मुर्गियां दब गईं। मौसम की भविष्यवाणी करनेवाली निजी एजेंसी स्काइमेट के मुताबिक दक्षिणपश्चिम मॉनसून सोमवार को केरल के तट पर पहुंच गया। हालांकि, मौसम की आधिकारिक भविष्यवाणी करने वाले भारतीय मौसम विभाग ने कहा है कि मॉनसून केरल में अगले 24 घंटे में यानी मंगलवार को पहुंचेगा।
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment