INDvsBAN : 32 साल में कभी फाइनल न जीतने वाले बांग्लादेश ने टीम इंडिया के लिए बजाई खतरे की घंटी

नई दिल्ली : एशिया कप के फाइनल में टीम इंडिया का सामना बांग्लादेश से हो रहा है. तमाम आशंकाओं और संभावनाओं को पीछे छोड़ते हुए बांग्लादेश ने मैच में शानदार शुरुआत की है. टीम इंडिया को पहले पावर प्ले में उसने विकेट के लिए तरसा दिया. उसके दोनों सलामी बल्लेबाज लिटन दास और मेहदी हसन ने अपनी टीम को वही शुरुआत दी, जैसी उसे जरूरत थी. 11वें ओवर में लिटन दास ने अपनी फिफ्टी पूरी की. अब तक टीम इंडिया ऐसे 9 वनडे फाइनल हार चुकी है, जिसमें विरोधी टीम के सलामी बल्लेबाजों ने अपनी टीम के लिए 70 रन से ज्यादा जोड़ दिए हों. बांग्लादेश के सलामी बल्लेबाजों ने 20.5 ओवर में 120 रन बना दिए. इस मैच में हालांकि रविंद्र जडेजा के एक ओवर में एक विकेट की संभावना बनी थी, लेकिन युजवेंद्र चहल वह कैच नहीं ले पाए.लिटन दास और मेहदी हसन ने भारत के खिलाफ फाइनल में छठी शतकीय साझेदारी की. इससे पहले पांच टीमों की सलामी जोड़ी फाइनल में भारत के खिलाफ शतकीय साझेदारी कर चुकी हैं. भारत के खिलाफ फाइनल में सलामी जोड़ी का प्रदर्शन सलामी जोड़ी रन स्थान कब मार्वन अटापट्टू-जयसूर्या 137 कोलंबो 1997 गिलक्रिस्ट-मैथ्यू हैडन 105 जोहानिसबर्ग 2003 नाथन एस्टल-फ्लेमिंग 121 हरारे 2005 दिलशान-जयवर्धन 121 दांबुला 2010 अजहर अली-फखर जमां 128 ओवल 2017 लिटन दास-मेहदी हसन 120 दुबई 2018 इस मैच में बांग्लादेश की बल्लेबाजी इस एशिया कप की सबसे शानदार बल्लेबाजी रही. अब तक एशिया कप के मैचों में बांग्लादेश ने पावर प्ले में 12 विकेट खोए. इस दौरान उनकी रन बनाने की औसत 3.2 रही. इस मैच में बांग्लादेश ने कोई विकेट नहीं खोया. उनकी रन औसत 5.6 रही. बांग्लादेश ने अपने 32 साल के वनडे इतिहास में कभी भी कोई फाइनल नहीं जीता है. हालांकि 2007 में एंटीगा में खेली गई एक एसोसिएट ट्राइ सीरीज का फाइनल जरूर जीता था. इसमें कनाडा और बरमूडा जैसी टीमें थीं. हालांकि वह फाइनल बांग्लादेश ने खेलकर नहीं बल्कि प्वाइंट के आधार पर जीता था.
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment