आर्थिक समीक्षा में 'नीले गगन' का क्या है राज?

नई दिल्ली :मुख्य आर्थिक सलाहकार कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यन ने कहा है कि 2018-19 की आर्थिक समीक्षा ‘नवीन और खुले विचार’ से प्रेरित है और यह बात समीक्षा के नीले आवरण से प्रतिबंबित होती है। यह आर्थिक समीक्षा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली एनडीए सरकार के दूसरे कार्यकाल की पहली आर्थिक समीक्षा है। उन्होंने कहा है, '2018-19 की आर्थिक समीक्षा ब्लू स्काई थिंकिंग (नीले गगन की तरह उन्मुक्त सोच) अर्थात नवीन और खुली सोच’ से प्रेरित है और यह बात समीक्षा के नीले कवर से प्रतिबंबित होती है।' सुब्रमण्यन ने समीक्षा की भूमिका में लिखा है कि हमारी युवा आबादी के बीच जो आंकाक्षा जगी है, उसके साथ भारत वैसे ऐतिहासिक समय पर खड़ा है। इससे सतत उच्च आर्थिक वृद्धि दर अनिवार्य बन गई है। उन्होंने कहा कि 2018-19 की आर्थिक समीक्षा की टीम अनूठे और खुले विचार यानी ‘ब्लू स्काई थिंकिंग’ से प्रेरित रही है। ‘ब्लू स्काई थिंकिंग’ से आशय लक्ष्यों को हासिल करने के लिए नए और खुले विचार से है। सीईए ने कहा, 'समीक्षा में भारत के लिये उपयुक्त आर्थिक मॉडल के बारे में सोचने को लेकर एक आजाद रुख को अपनाया गया है यह समीक्षा के आवरण के नीला होने से प्रतिबिंबित होता है।' पिछले साल पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यन द्वारा तैयार आर्थिक समीक्षा के आवरण का रंग गुलाबी था जो महिला सशक्तिकरण का प्रतीक था। उन्होंने यह भी कहा कि देश को 5,000 अरब डालर की अर्थव्यवस्था का लक्ष्य हासिल करने के लिए देश को आर्थिक वृद्धि की गति तेज कर 8 प्रतिशत की दर से वास्तविक जीडीपी वृद्धि दर हासिल करनी होगी। सुब्रमण्यन ने कहा है कि समीक्षा परंपरागरत सोच से हटकर है। इसमें या तो तेजी का दौर होता था या फिर गिरावट का और कभी संतुलन नहीं होता। उन्होंने कहा, 'इसकी तुलना में आर्थिक वृद्धि, मांग, निर्यात और रोजगार सृजन को गति देने की राष्ट्रीय प्राथकताओं को एक अलग समस्या के रूप में देखने के बजाए समीक्षा में इसे एक दूसरे का पूरक माना गया है।'
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment