जब तक घूंघट नहीं हटेगा, महिला कभी आगे नहीं बढ़ पाएगी: गहलोत

जयपुर: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने महिलाओं की घूंघट प्रथा पर प्रहार करते हुए कहा है कि समाज को किसी महिला को घूंघट में कैद करने का कोई अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि जब तक घूंघट नहीं हटेगा, महिला कभी आगे नहीं बढ़ पाएगी।राजधानी जयपुर में मंगलवार को नारी अधिकारों के लिए काम कर रहे एक संगठन के कार्यक्रम में शामिल होने आए गहलोत ने कहा, 'ग्रामीण इलाकों में महिलाएं अब भी घूंघट करती हैं। इस समाज को किसी महिला को घूंघट में कैद करने का क्या अधिकार है? जब तक घूंघट नहीं हटेगा, महिला कभी आगे नहीं बढ़ पाएगी। जमाना गया घूंघट का।'मुख्यमंत्री ने महिलाओं के घूंघट की तरफ इशारा करते हुए कहा, 'हिम्मत और हौसले के साथ आपको आगे बढ़ना पड़ेगा। सरकार आपके साथ खड़ी मिलेगी। अब जमाना बदल गया है और नारी शक्ति को घूंघट में कैद नहीं किया जा सकता है।' गहलोत महिलाओं के इस कार्यक्रम में बाल विवाह के खिलाफ भी बोले और कहा कि बाल विवाह नहीं होने चाहिए क्योंकि उससे सिर्फ जिंदगी बर्बाद होती है। सीएम ने बताया कि हाल ही में जनसुनवाई के दौरान एक बच्ची शिकायत लेकर आई कि उसका बाल विवाह किया जा रहा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि बच्ची का बाल विवाह नहीं होना चाहिए और अगर वह पढ़ना चाहे तो सरकार पूरी मदद करेगी। मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि उनकी सरकार ने महिलाओं पर अत्याचार और उत्पीड़न की घटनाओं पर रोक लगाने के लिए कदम उठाए हैं।
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment