सीएम योगी के आश्वासन पर भरोसा, नोएडा से बाहर नहीं जाएगा फूड पार्क: पतंजलि-patanjali-food-park

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने पतंजलि फूड एंड हर्बल पार्क को राज्य से बाहर नहीं शिफ्ट करने को लेकर बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण को आश्वासन दिया है. सीएम योगी के आश्वासन के बाद पतंजलि का बयान आया है. न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक एसके तिजरावाला ने कहा कि हमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आश्वासन दिया है और हम उनके आश्वासन पर भरोसा है. सीएम योगी ने आचार्य बालकृष्ण और बाबा रामदेव से बात की है और सहयोग का भरोसा दिलायाहै. हम उनकी प्रतिबद्धता का सम्मान करते हैं.तिजरावाला ने आगे कहा कि बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण से बातचीत में सीएम योगी ने कहा कि हम महत्वपूर्ण फूड पार्क को उत्तर प्रदेश से बाहर नहीं जाने देंगे. बता दें कि पतंजलि फूड एंड हर्बल पार्क को शिफ्ट करने की खबरों के बाद सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने मंगलवार को बाबा रामदेव से फोन पर बात की थी. जानकारी के मुताबिक, योगी ने बाबा रामदेव को आश्वासन दिया था कि यूपी से बाहर फूड पार्क नहीं जाएगा. यूपी सरकार में उच्च पदस्थ सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि इस मामले को जल्द सुलझा लिया जाएगा. बता दें इससे पहले पतंजलि कंपनी के एमडी आचार्य बालकृष्ण ने जानकारी दी थी पतंजलि फूड एंड हर्बल पार्क को राज्य से बाहर शिफ्ट किया जाएगा. बालकृष्ण के मुताबिक यूपी सरकार के निराशाजनक रवैये के वजह से फूड पार्क को शिफ्ट किया जाएगा. अब किसानों का जीवन बेहतर नहीं हो पाएगा. बता दें, नोएडा में फूड पार्क की आधारशिला प्रदेश में पिछली सरकार के मुखिया अखिलेश यादव ने रखी थी. बालकृष्ण ने ट्वीट कर दी थी जानकारी बालकृष्ण ने मंगलवार को ट्वीट किया था कि ग्रेटर नोएडा में केन्द्रीय सरकार से स्वीकृत मेगा फूड पार्क को निरस्त करने की सूचना मिली. श्रीराम व कृष्ण की पवित्र भूमि के किसानों के जीवन में समृद्धि लाने का संकल्प प्रांतीय सरकार की उदासीनता के चलते अधूरा ही रह गया. पतंजलि ने प्रोजेक्ट को अन्यत्र शिफ्ट करने का निर्णय लिया. इसके बाद बालकृष्‍ण ने 'आजतक' से बात करते हुए कहा था कि यूपी में केवल धींगा-मस्ती हो रही है, काम नहीं हो रहा. हमारी फाइल कहां है आप ही पता करें. बता दें कि अखिलेश सरकार में पतंजलि के इस मेगा फूड पार्क को बनाने का फैसला किया गया था. अखिलेश यादव और बाबा रामदेव ने एक जॉइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसका ऐलान किया था. इस परियोजना की लागत 1666.80 करोड रुपये थी. ये फूड पार्क 455 एकड़ में बनना था. बाबा रामदेव के मुताबिक, इस फूड पार्क से 8000 से अधिक लोगों को सीधा रोजगार और 80 हजार लोगों को परोक्ष रोजगार मिलता. पतंजलि की ओर से कहा गया था कि अब फूड पार्क से बाहर जाने से राज्य का और यहां रहने वाले लोगों का नुकसान होगा.
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment