सीबीआई ने राबड़ी जी और तेजस्वी सहित 14 लोगों के विरूद्ध दायर किया चार्जशीट - cbi files charge sheet in irctc scam

नई दिल्ली: केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने आईआरसीटीसी मामले में पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव व अन्य के खिलाफ सोमवार को चार्जशीट दाखिल कर दिया. गौरतलब है कि यह पूरा मामला आईआरसीटीसी के दो होटलों का प्रबंधन ठेका एक निजी कंपनियों को देने के दौरान भ्रष्टाचार का है. सीबीआई  द्वारा अदालत में दाखिल इस आरोप पत्र में नामित 14 लोगों में बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री व लालू प्रसाद की पत्नी राबड़ी देवी , उनके बेटे तेजस्वी यादव का भी नाम है. सूत्रों के अनुसार सीबीआई ने इस मामले में राबड़ी देवी से भी पूछताछ की थी.



इस मामले के अनुसार रेल मंत्री के पद पर रहते हुए लालू प्रसाद यादव ने इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कारपोरेशन ( आईआरसीटीसी ) द्वारा संचालित दो होटलों ( रांची व पुरी ) का ठेका सुजाता होटल्स को दिया था. आरोप है कि इन होटलों के ठेके देने के बदले में एक बेनामी कंपनी के जरिए पटना में तीन एकड़ जमीन लिया गया. सुजाता होटल्स विनय व विजय कोचर की कंपनी है. वहीं इस मामले को लेकर दायर प्राथमिकी में आरोप है कि लालू यादव ने अपने पद का दुरुपयोग करते हुए कोचर को अवांछित फायदा पहुंचाया है. इसके लिए डिलाइट मार्केटिंग कंपनी के जरिए अच्छी खासी कीमत की जमीन लिया गया है. 




वहीं इस चार्जशीट को लेकर पार्टी के नेता शिवानंद तिवारी ने कहा कि अपनी प्रतिष्ठा बचाने की मजबूरी में सीबीआई ने राबड़ी जी और तेजस्वी के विरूद्ध चार्जशीट दायर किया है. राबड़ी जी के आवास पर छापेमारी ने महागठबंधन से नीतीश कुमार को निकलने का बहाना दिया था. तेजस्वी लगातार सीबीआई को चार्जशीट के लिए चुनौती दे रहे थे. एक अग्रेजी अखबार ने छापा था कि सीबीआई के लीगल सेल ने उसको इस मामले में एफ़आईआर दायर नहीं करने की सलाह दी थी. क्योंकि इसके लिए उसके पास पर्याप्त साक्ष्य नहीं है.




अब अगर सीबीआई चार्जशीट दायर नहीं करती तो न सिर्फ़ उसका चेहरा काला होता बल्कि नीतीश सहित नरेंद्र मोदी सरकार की क़लई भी खुल जाती. अदालत में यह आधारविहीन मामला हवा की तरह उड़ जाएगा. हम इस तात्कालिक संकट का मुक़ाबला करेंगे. और हमारा संघर्ष जारी रहेगा.


Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment