कमलेश तिवारी: CM योगी के आने के बाद ही अंतिम संस्कार पर अड़े परिजन- Loktantra Ki Buniyad

लखनऊ: यूपी की राजधानी लखनऊ में हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की दिनदहाड़े हुई हत्या ने पूरे प्रदेश को हिलाकर रख दिया है। हत्या से तनाव का माहौल है। इस बीच शुक्रवार देर रात कमलेश तिवारी का शव सीतापुर के महमूदाबाद स्थित उनके पैतृक गांव में पहुंच गया है। कमलेश के परिवारवालों में गम के साथ गुस्सा भी है। परिवारवालों ने साफ किया है कि जब तक सीएम योगी आदित्यनाथ उनसे मिलने नहीं आएंगे, तब तक वे अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। वहीं, कमलेश तिवारी की पत्नी ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर सीएम नहीं आते हैं, तो वह खुद आत्मदाह कर लेंगी। वहीं, महमूदाबाद में तनाव के माहौल के बीच आज बाजार बंद कराया गया है।बता दें कि लखनऊ के घनी आबादी वाले नाका हिंडोला इलाके में शुक्रवार को हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की दिनदहाड़े हत्या से इलाके में तनाव है। मामले की गंभीरता को देखते हुए यूपी सरकार ने लखनऊ के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) एस. के. भगत की अगुआई में 3 सदस्यीय विशेष जांच दल (SIT) का गठन किया है। कमलेश तिवारी: साजिश का हिस्सा था भगवा उधर, हत्याकांड के बाद कमलेश तिवारी के घर डेप्युटी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा पहुंचे। यहां पर कमलेश के नाराज समर्थकों ने उनके खिलाफ नारेबाजी की, जिसके बाद डॉ. दिनेश शर्मा वहां से वापस लौट गए। वहीं, केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने यूपी डीजीपी और लखनऊ के डीएम से फोन पर बात की है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जरूरी कार्रवाई करते हुए जल्द से जल्द आरोपियों को गिरफ्तार किया जाए।भगवा कुर्ते में आए थे हत्यारे खुर्शेदबाग में हिन्दू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी के हत्यारे इलाके से पूरी तरह वाकिफ थे और साजिशन भगवा कुर्ता पहनकर आए थे। पुलिस सूत्रों के मुताबिक हत्यारों ने भ्रमित करने के लिए ऐसा किया। इलाकाई लोगों का भी मानना है कि हत्यारों के भगवा कुर्ता पहनने का मकसद भटकाना है। लोगों की बात इसलिए भी ठीक लग रही है क्योंकि फुटेज में दिख रहे हमलावरों के शरीर पर मौजूद कुर्ता एकदम नया लग रहा है। आशंका है कि हमलावरों ने कुर्ते के नीचे शर्ट या टीशर्ट पहन रखी थी। पुलिस को शक है कि मेन रोड पर पहुंचने के बाद बदमाशों ने कुर्ता उतार दिया होगा। अलहिंद ब्रिगेड ने ली हत्या की जिम्मेदारी इस बीच, सोशल मीडिया पर एक तथाकथित संगठन अलहिंद ब्रिगेड के नाम से एक मेसेज वायरल हो रहा है, जिसमें हत्या की जिम्मेदारी ली गई है। मेसेज में दावा किया गया है कि जो भी इस्लाम या मुस्लिमों पर उंगली उठाएगा, उसका यही अंजाम होगा। मेसेज की सत्यता की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। यूपी पुलिस की भी जानकारी में यह मेसेज है और इसकी जांच की जा रही है। सुपारी लेकर हत्या की आशंका छानबीन में जुटी पुलिस कॉन्ट्रेक्ट कीलिंग को लेकर भी जांच कर रही है। कमलेश तिवारी से जुड़े विवाद और उससे मिलने-जुलने वालों का ब्यौरा जुटाया जा रहा है। आशंका है कि हत्यारों ने रेकी के बाद कमलेश से परिचय बढ़ाया होगा। इसके बाद आने-जाने के दौरान शुक्रवार को मौका देखकर हत्या कर दी। पीड़ित परिजनों के अनुसार आईएसआईएस से जान के खतरे के बाद कमलेश ने नाका पुलिस से मौखिक रूप से अपनी सुरक्षा बढ़़ाए जाने की मांग की थी।
Share on Google Plus

0 comments:

Post a comment